शनिवार, 24 अक्तूबर 2015

स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका (वाया मनाली)

मनाली से होकर स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका विस्तृत रुप में इस पेज पर नीचे प्रकाशित की गई है। संपूर्ण टिप्स वाले पेज हेतू यहां क्लिक करें। शिमला-किन्नौर से काजा वाले रुट के लिये यहां क्लिक करें
  1. कब जायें 
  2. कैसे जायें 
  3. यात्रा प्लान 
  4. दर्शनीय स्थलों की सूची 
  5. रात्रि-विश्राम

स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका (वाया शिमला-किन्नौर)

शिमला-किन्नौर से होकर स्पीति जाने के लिये मार्गदर्शिका विस्तृत रुप में इस पेज पर नीचे प्रकाशित की गई है। संपूर्ण टिप्स वाले पेज हेतू यहां क्लिक करें। मनाली से काजा वाले रुट के लिये यहां क्लिक करें
  1. कब जायें 
  2. कैसे जायें 
  3. यात्रा प्लान 
  4. दर्शनीय स्थलों की सूची 
  5.  रात्रि-विश्राम

स्पीति टूर गाईड

स्पीति, एक ऐसी जगह जो हर मौसम में अपने अलग-अलग रंग दिखाती है। जो वहां नहीं गये वो स्पीति के न जाने कितने रुप मन में बसाये फिरते हैं। किन्नौर-स्पीति-लाहौल घाटियों का सफर उत्तेजना और रोमांच से भर देता है। किसी भी अन्य यात्रा के मुकाबले स्पीति भ्रमण बेहद दुर्गम है। कोई अगर लद्दाख हो आया है और अपने आप को तीस मार खाँ समझे तो स्पीति के यात्री भी किसी भी तरह से पच्चीस मार खाँ नहीं है। लद्दाख और स्पीति में समान भौगोलिक परिस्थितियां मिलती हैं। दुर्गमताओं को पार करने का इनाम हर मोङ पर मिलता है। हिमालय हर बार नये रुप में सामने होता है। दूसरी चीजें भी बदलती जाती हैं, जैसे लोग, भाषा, भूगोल, सङक, सब कुछ यहां तक कि कई मायनों में खुद आप भी। मुख्यतः काजा ही स्पीति का मध्य-बिंदु है और आप जैसे-जैसे इस केन्द्र की ओर बढते जायेंगें तो स्थानिय बोली, सङक और भूगोल जटिल होते जायेंगें लेकिन स्थानिय लोग और उनका व्यवहार सरल होता जायेगा। इस पर भी संवाद की ओर से तनिक भर भी परेशान होने की जरूरत नहीं चूंकि हिन्दी खूब बोली और समझी जाती है। “हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा” शीर्षक के साथ इसी ब्लॉग पर छह अंकों में प्रकाशित किया गया यात्रा-वृतांत दिल्ली-काजा-दिल्ली भ्रमण का उम्दा मार्गदर्शक है। तो भी इस लेख के जरिये स्पीति यात्रा से जुङी हर जिज्ञासा को वन-स्टॉप-सर्च के आधार पर पूरी करने का प्रयास किया जायेगा।

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2015

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा (कुल्लू से दिल्ली) भाग-06

यात्रा को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा का पांचवा और अंतिम रैन-बसेरा सिद्ध हुआ कुल्लू। कल मैं और रविन्द्र अपनी मोटरसाईकिल को लोसर से एक गाङी में लादकर यहां तक लाये थे और आज दिल्ली (अपने घर) की ओर कूच कर दिया जायेगा। पर उससे पहले चंद बातें कुल्लू के बारे में कर लें। पर्यटन में मनाली के प्रभुत्व के आगे कुल्लू दबा हुआ सा दिखता है। ऐसे सैलानियों की कोई कमी नहीं जो कुल्लू-मनाली घूमने की कहकर घर से निकलते हैं पर मनाली और रोहतांग देखकर वापस हो लेते हैं। जबकि हकीकत तो ये है कि हर तरह के मौसम और हर तरह के सैलानी के लिये इधर का प्रवेश-द्वार कुल्लू ही है। हर दिल अजीज़ रोहतांग, मनाली, मणिकर्ण, नग्गर आदि के बारे में तो सब जानते ही हैं। इन सब के मार्ग कुल्लू से ही निकलते हैं। खीरगंगा, बिजली महादेव, चंद्रखनी, मलाणा जैसे मध्यम दर्जे के ट्रेकों के लिये भी यहीं से मार्ग निकलते हैं। हाई-ऑल्टीट्यूड ट्रेकिंग रूट जैसे सारा-उमगा और हामता पास भी कुल्लू से ही निकलते हैं जो कुंजुंम पास और बारालाचा-ला होते हुये सीधे लद्दाख में पहुँचा देते हैं। और तो और बगैर किन्नौर जाये पिन-पार्वती पास से होकर सीधे स्पीति के गढ काजा तक भी कुल्लू से जाया जा सकता है। कुल्लू स्वयं अपने भीतर अनेक आकर्षण समेटे हुये है। रघुनाथ और श्रृंग ऋषि जैसे अनेक मंदिर हैं, फिशिंग और राफ्टिंग के लिये ब्यास है, बौद्ध मठ भी हैं। कुल्लू का दशहरा तो विश्व-प्रसिद्ध है ही। क्या कुछ नहीं है कुल्लू में?

शनिवार, 10 अक्तूबर 2015

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा (लोसर से कुल्लू) भाग-05

शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा का चौथा रैन-बसेरा लोसर तेरह हजार फीट से ज्यादा की उंचाई पर स्थित है। यह उंचाई बहुत तो है पर इतनी भी अधिक नहीं कि इंसान प्राण त्याग दे। तेरह हजार फीट तक ऑक्सीजन का स्तर इतना भी नहीं गिर जाता। हिमालय के इस पार तो चौदह-पन्द्रह हजार फीट की उंचाई वैसे भी आम होती है। पर गर्म मैदानों के प्राणियों के शरीर का क्या भरोसा? खुद को महामहिम समझने वाले बहुत से मैदानी जब स्पीति और लद्दाख की ऐसी उंचाईयों पर पहुँचते हैं तो उन्हें अपनी असली औकात पता चल जाती है। आमतौर पर यूं भी शांत ही रहने वाला मैं, इन पहाङों की असीमता के आगे नतमस्तक होकर और भी शांतचित हो गया। ये ऐसी जगहें हैं जो निःशब्द रहकर आदमी को उसके बौनेपन का सतत् बोध कराती रहती है।

सोमवार, 5 अक्तूबर 2015

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा (चांगो से लोसर) भाग-04

यात्रा को शुरूआत से पढने के लिये यहां क्लिक करें

चौथा दिन और आज किन्नौर से आऊट हो जाने की तैयारी। कल जब चांगो पहुँचा था तो जीभ में कसक थी इसके सेब परखने की। चांगो के सेब बहुत ही उम्दा क्वालिटी के बताये जाते हैं। ये नौ हजार फीट से भी ज्यादा की उंचाई पर फलते हैं। लेकिन शाम ही से घर की याद आने लगी थी। जी करता था कि बस कैसे भी उङकर अभी घर पहुँच जाउं लेकिन मैं नभचर तो नहीं। काश होता! रविन्द्र का भी यही हाल था। मैं पहले भी घर से बाहर कई-कई दिनों तक रह चुका हूँ, वो भी ऐसी परिस्थितियों में जबकि जेब में पैसे तक नहीं बच पाते थे खाने के लिये। शिलांग भ्रमण के दौरान 2500 रूपये से भी कम खर्चे में एक सप्ताह की यात्रा कर डाली थी जिसमें दिल्ली से आने-जाने का किराया, होटल और खाना सब कुछ शामिल है। एक यात्रा और भी है जब 12 दिनों की यात्रा मात्र 1200 रूपये में निपटा दी थी। पर अब से पहले ऐसा कभी नहीं हुआ। अब तो काम चलाने योग्य पैसे भी जेब में रहते ही हैं। फिर भी अब ऐसा क्यों?

मंगलवार, 29 सितंबर 2015

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा (कल्पा से चांगो) भाग-03

शुरूआत से यात्रा-वृतांत पढने के लिये यहां क्लिक करें

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा का तीसरा दिन और मैं किन्नौर में हूँ। किन्नौर में हिमालय की दो बेहद महत्वपूर्ण श्रृंखलाऐं हैं- जांस्कर और वृहद हिमालय। स्पीति की ओर इसके निचले छोर के पास ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क है और उससे कुछ उपर पिन वैली नेशनल पार्क। भाबा, सांगला, बस्पा, रोपा और चरांग जैसी सुरम्य घाटियां किन्नौर के किसी नगीने से कम नहीं। फिर किन्नौर-कैलाश की चार-पाँच दिनी पैदल परिक्रमा तो होती ही है घुमक्कङों की दिली ख्वाहिश। साहसी ट्रेकर खूब रूख करते हैं इनकी तरफ। किन्नौर की हद भारत और तिब्बत के बीच अंतरराष्ट्रीय सीमा है। किन्नौर के लिये पहले इनर-लाइन परमिट लेना होता था पर अब लगभग सारा किन्नौर (शिपकी-ला, कौरिक जैसे इलाकों को छोङकर) आम भारतीय नागरिकों के लिये बिना परमिट के खुला हुआ है, इस हद तक कि तिब्बत के इलाके तक बिना दूरबीन के साफ दिख जायें। हिन्दुस्तान-तिब्बत रोड (NH-22) के अंतिम छोर “खाब” तक भी आप जा सकते हैं। रिकांगपिओ और कल्पा किन्नौर के दिल हैं और ये एक तरह से दो संस्कृतियों का जंक्शन भी हैं। यहां से काज़ा को बढते हुये इलाका बौद्ध बहुल होने लगता है तो शिमला की ओर बढते हुये हिन्दू बहुल। रिकांगपिओ और कल्पा में हिन्दू और बौद्ध दोनों ही धर्म एक साथ श्वास लेते हैं। आज की सुबह मैं कल्पा में हूँ यानि किन्नौर की खूबसूरती के गढ में। अन्य जगहों की तरह रविन्द्र बार-बार इसका नाम भी भूल जाता था और कल्पा की बजाय कल्पना-कल्पना जपने लगता था। जो वहां नहीं गऐ वो बस कल्पा की सुंदरता की कल्पना ही कर सकते हैं। कल्पा में ताबो जितनी पुरानी पर उससे कम प्रसिद्ध हू-बू-लान-कार मोनेस्ट्री है और नारायण-नागनी मंदिर के रूप में स्थानीय शिल्प-कौशल का नमूना भी है। सेब और आङू के बेइंतहा बाग तो हैं ही। जिधर देखो सेब ही सेब। चिलगोजे और अखरोट भी हैं। दिल्ली से रिकांगपिओ की दूरी साढे पाँच सौ किलोमीटर के लगभग है और दोनों शहरों के बीच सीधी बस सेवा है। रिकांगपिओ से कल्पा दस किलोमीटर भी नहीं है।

शनिवार, 26 सितंबर 2015

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा (नारकंडा से कल्पा) भाग-02

यात्रा-वृतांत की शुरूआत के लिये यहां क्लिक करें

बंजारा हूँ, मैं कहां बस्ती में रहता हूँ।
आवारा झोंका हूँ, अपनी मस्ती में रहता हूँ।
हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा का आज मेरा ये दूसरा दिन है। कल जब नारकंडा पहुँचा था तो मौसम खराब होने लगा था इसलिऐ यहीं रूक गया। फिर दिन ढले झमाझम बारिश भी खूब हुई। दोपहर बाद हिमालय में बारिश हो जाना कोई असामान्य बात है भी नहीं। सो ये सोचकर कि सुबह मौसम खुला हुआ मिलना ही है, आराम से सोये। लगातार 15 घंटे की बाईक-राइडिंग किसी को भी थका सकती है। मुझे भी थकाया। नतीजा ये हुआ कि आज नारकंडा से तैयार होकर निकलने में 10 बज गये। लंबी यात्राओं में समय महत्वपूर्ण होता है और हमने कम से कम तीन घंटे का वक्त जाया कर दिया। खैर बाईक के पास आये और अपना सामान बांधा। इसके बाद कुछ समय नारकंडा के आसपास के नजारे में लेने लग गया।

नारकंडा हिमालय की शिवालिक रेंज में करीब 2730 मीटर की उंचाई पर है। जाहिर है मौसम में ठंडक घुली रहती है। रजाईयों की जरूरत बनी रहती है। गर्म जॉकेट पहनने पर भी सितंबर की दस बजे की धूप बङी गुनगुनी लग रही थी। हिन्दुस्तान-तिब्बत रोड नारकंडा के बीच से गुजरता है। यह रामपुर-बुशैहर और शिमला के ठीक बीच में स्थित है। दोनों शहर इससे करीब 65-65 किलोमीटर आगे-पीछे हैं। मुख्य कस्बे के दक्षिण-पूर्व में है हाटू चोटी। 3000 मीटर से अधिक उंचाई वाली यह चोटी स्थानियों के लिये काफी पवित्र है। इस पर एक मंदिर भी बना हुआ है। कोई निजी होटल तो नहीं है, हां लेकिन एक सरकारी रेस्ट-हाऊस अवश्य है। नारकंडा कस्बे से करीब आठ किलोमीटर की चढाई के बाद वहां पहुँच सकते हैं। चाहे तो ट्रेकिंग कर सकते हैं या फिर अपने वाहन से भी जा सकते हैं। सङक उपर तक गई है। मौसम खराब ना हो तो अपना टैंट भी लगा सकते है। उत्तर-पूर्व की ओर देखने पर आपको कोटगढ के सेब के बाग आसानी से दिख जायेंगें। अच्छी क्वालिटी के सेब बहुत होते हैं यहां। सत्यानन्द स्टॉक्स (सैमुअल इवान स्टॉक्स) एक अमरीकी थे जिन्होंने इस क्षेत्र की अर्थव्यवसथा को सुधारने के लिये यहां सेबों की खेती आरंभ की थी। कोटगढ और थानाधार की दूरी नारकंडा से ज्यादा नहीं है। थानाधार भी एक सुंदर जगह है। एक झील भी है इसके आस-पास पर अब उसका नाम याद नहीं आ रहा। नारकंडा में एक पैट्रोल-पंप भी है। इसके बाद पैट्रोल-पंप रामपुर में ही मिलता है। नारकंडा से श्रीखंड महादेव भी साफ दिखाई देता है। उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर देखने पर यदि मौसम साफ हो तो श्रीखंड महादेव और कार्तिकेय चोटियां पहाङों की अंतिम कतार में खङी दिखाई देती हैं।

बुधवार, 23 सितंबर 2015

हिमाचल मोटरसाईकिल यात्रा (दिल्ली से नारकंडा) भाग-01

फूलों की घाटी का कार्यक्रम रद्द हो जाने की वजह से मन बहुत दुःखी हो गया था। कई कोशिशें करने के बावजूद उत्तराखंड यात्रा बार-बार टल रही थी। इस बार तो ऐन मौके पर जाना रद्द हुआ, बैग तक आधे पैक हो गऐ थे और फिर से उत्तराखंड यात्रा टल गई। मैं खीज गया। तेरी ऐसी की तैसी। एक तू ही है क्या भारत में? उत्तराखंड, अब आऊंगा ही नहीं तेरे यहां। कहीं और चला जाऊंगा। पङा रह अपनी मरोङ में। फटाफट हिमाचल का प्रोग्राम बना डाला। हिमाचल की कई जगहें मेरी टारगेट-लिस्ट में शामिल थीं। शिपकी-ला, किब्बर, प्राचीन हिन्दुस्तान-तिब्बत रोड, एन.एच. 05, काज़ा आदि। कुछ बौद्ध मठों को भी साथ में देखने का कार्यक्रम बनाया और एक लंबी दूरी की मोटरसाईकिल यात्रा फिक्स हो गई।

यात्रा-प्रोग्राम

तय कार्यक्रम की एक झलक नीचे दिखा रहा हूँ।
पहला दिनः पिंजौर गार्डन देखते हुये शिमला तक और आगे प्राचीन हिन्दुस्तान-तिब्बत रोड से होते हुये रामपुर तक।
दूसरा दिनः कल्पा, रोघी देखते हुये सांगला घाटी और छितकुल तक।
तीसरा दिनः शिपकी-ला देखते हुये दुर्गमतम एन.एच. 05 से होते हुये गियू, नाको, धनकर और ताबो मठ घूमकर काजा तक।
चौथा दिनः किब्बर और कीह देखते हुये कुंजम पास, चंद्रा घाटी और रोहतांग पास से होते हुये मनाली तक।
पांचवा दिनः दिल्ली वापस।

शुक्रवार, 4 सितंबर 2015

हुमायूं का मकबरा, बिल्कुल अलग अदांज में।

वो खाता रहा ठोकरें, जिंदगी भर सुकूं को।
ना मिल सका सुकूं, मौत के बाद भी रूह को।।

द्वितीय मुगल बादशाह “नासिरूद्दीन मुहम्मद हुमायूं” पर ये पंक्तियां सटीक बैठती हैं। इतिहास में बहुत से शासकों का जीवन लङाईयों में बीता है पर इस शासक का जीवन लङाईयों के साथ-साथ बेहद लंबे सफरों में भी बीता। काबुल में जन्म के बाद हुमायूं हजारों किलोमीटरों दूर दिल्ली आया। 23 साल की उम्र में पिता बाबर का साया सिर से उठ जाने के बाद 1531 में हुमायूं को गद्दी संभालनी पङी। नौ वर्षों तक शासन किया लेकिन 1540 में जब शेरशाह सूरी के हाथों मात खानी पङी तो फिर से सफर का जो सिलसिला शुरू हुआ तो लगातार पंद्रह सालों तक चलता रहा। वो दिल्ली से अफगानिस्तान होता हुआ फारस गया। वर्षों तक सेना और सहयोगी इकठ्ठे करता रहा ताकि फिर से अपना राज पा सके। जब लौटा तो उसके साथ थी कुलीन फारसी सेवकवृंदों और लङाकों की पूरी फौज। फारस में बिताऐ गऐ वे पंद्रह वर्ष न केवल हुमायूं के जिंदगी में बल्कि उसकी मौत के बाद बनने वाले मकबरे के लिऐ भी अति महत्वपूर्ण सिद्ध हुऐ। फारसी संस्कृति का असर हुमायूं और उसके बाद के काल के हिंदुस्तान पर साफ-साफ दिखता भी है। दर-दर की ठोकरें खाऐ इस शंहशाह ने दिल्ली लौट कर राज की बाजी तो जीत ली पर केवल साल-भर ही हुकूमत कर पाया। 1556 में सीढीयों से गिरकर हुमायूं की मौत हो गई। उसे दिल्ली में पुराना किला में दफनाया गया। सफर के जिन्न ने मरहूम बादशाह का पीछा मरने के बाद भी नहीं छोङा। हेमू ने जब दिल्ली पर हमला किया तो मुगलों के पैर उखङ गऐ और भागती हुई मुगल सेना को हुमायूं का शव वापस खोद निकालना पङा। उन्हें डर था कि कहीं हेमू उसे नेस्तनाबूद ना कर दे। शव को सरहिंद ले जाकर दफन किया गया। सफर यहीं नहीं रूका। हुमायूं के हरम की एक बेगम थी- हमीदा। हमीदा बेगम का हुमायूं की जिंदगी में वही स्थान था जो उसके परपोते शाहजहां की जिंदगी में मुमताज बेगम का रहा। हमीदा बेगम फारस के वनवास के पहले, दौरान और बाद में उसी तरह हुमायूं के साथ रही थी जैसे मुमताज जंगों और सफरों के दौरान शाहजहां के साथ। फर्क बस इतना है कि शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की कब्र के लिऐ ताजमहल का निर्माण* कराया तो हमीदा ने अपने शौहर हुमायूं के लिऐ उसी ताज के प्रेरक मकबरे का। हां बाद में इन दोनों को ही उनके शरीक-ए-हय़ात के साथ ही दफन किया गया। हमीदा की मुहब्बत का ही असर रहा कि हुमायूं को पंजाब की एक गुमनाम-सी जगह के हवाले नहीं छोङ दिया गया बल्कि दिल्ली में उसके लिऐ एक आलीशान मकबरे का निर्माण कराया गया। हेरात से विशेष कारीगर बुलाये गये इसे गढने के वास्ते। 1556 में मौत के बाद इस आखिरी और भव्य ठिकाने पर आते-आते हुमायूं को करीब दस साल लग गऐ। उसे तीन बार अलग-अलग जगहों पर दफनाया गया।

कहीं और कभी देखी है लाश की ऐसी खानाबदोशी। इसी बात पर उपर दो पंक्तियां लिखनी पङीं।

रविवार, 23 अगस्त 2015

मेघालय में नारी-सशक्तिकरण

नारी-उत्थान, स्त्री-शक्ति आदि बहुत से शब्द हैं जो किताबों, पत्र-पत्रिकाओं और अख़बारों की शोभा बढाते हैं। जनमानस, विशेषकर औरतों, को उद्दवेलित करने के लिऐ नेता लोग तो ऐसे शब्दों को अपनी जुबान पर धरे रखते हैं। बङे-बङे सेमिनार और सभाऐं आयोजित की जाती हैं स्त्री-शक्ति विषय पर। रटे-रटाये भाषण दोहराऐ जाते हैं, कुछ घिसे-पिटे उदाहरण भी दिये जाते हैं पर आखि़र में लजीज़ व्यंजनों का मजा लेकर कागज के नैपकिनों की तरह स्त्री-शक्ति को भी कूङेदान के हवाले करके चलते बनते हैं। कहा ये भी जाता है कि औरतों की समझदानी छोटी होती है। समाज-व्यवहार की बातों को औरत भला क्या जाने? वे घर में ही ठीक हैं और घर की चहारदीवारी के बाहर उनका कोई काम भी नहीं है। ऐसी स्थिति में घर और जेल में कोई अंतर नहीं रह जाता। पर चारदीवारियों की उस घुटन से मर्दवा को क्या फर्क, क्योंकि उन्हें तो दुनिया चलानी होती है। वही दुनिया जो उस नारी की कोख से ही जन्म लेती है और मर्द जिसे चलाने के ठेकेदार बने फिरते हैं। कट्टर इस्लामिक राष्ट्रों में तो औरतें किसी जरुरी काम से बाहर निकलें भी तो चोटी से पंजों तक का भारी लबादा ओढकर ही निकल पाती हैं। खुली हवा में सांस लेना तो जैसे उन अभागिनों को मयस्सर ही नहीं हैं। मर्द उस घुटन का अंदाजा तक नहीं लगा सकते जिसमें घुटते-घुटते इन बुरकाधारिनों की जिंदगी बीत जाती है। लगायें भी तो कैसे? शुरू से ही वे अपनी मांओं, बहनों और अन्यों को बेजान चीज़ की तरह ट्रीट होता देखकर बङे होते हैं और अंततः खुद भी जुल्मी बन जाते हैं। कोख की कैद से निकलते ही पीहर की कैद, फिर ससुराल की कैद और अंत में कब्र की कैद। जिंदगी शुरू होने से पहले शुरू होती है कैद और मरने के बाद भी पीछा नहीं छोङती।

मंगलवार, 11 अगस्त 2015

My Journey Of India

उत्तर भारत की यात्राऐं
जम्मू-कश्मीर          पंजाब          हिमाचल प्रदेश          उत्तराखंड          उत्तर प्रदेश          हरियाणा          दिल्ली          चंडीगढ

मध्य भारत की यात्राऐं
मध्य  प्रदेश          छत्तीसगढ

पश्चिम भारत की यात्राऐं
राजस्थान          गुजरात          महाराष्ट्र          गोवा          दादरा एवं नगर हवेली          दमन एवं दीव

पूर्व भारत की यात्राऐं
बिहार          झारखंड          पश्चिम बंगाल          ओडिसा

पूर्वोत्तर भारत की यात्राऐं
सिक्किम          असम          अरूणाचल प्रदेश          मेघालय          मणिपुर          मिजोरम          नागालैंड          त्रिपुरा

दक्षिण भारत की यात्राऐं
तेलंगाना          आंध्र  प्रदेश          तमिलनाडू          कर्नाटक          केरल          पुद्दूचेरी

भारतीय द्वीपों की यात्राऐं
अंडमान एवं निकोबार          लक्षद्वीप

रविवार, 9 अगस्त 2015

Uttarakhand To Delhi Bike Trip

 इस यात्रा को शुरू से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें।
उत्तराखंड मोटरसाईकिल यात्रा (दूसरा दिन)
कल उत्तराखंड की अपनी शुरूआत ही बारिश में की थी। बारिश भी ऐसी कि सुबह चार बजे बहादुरगढ से निकले हुऐ हम मोटरसाईकिल सवार 260 किलोमीटर दूर हरिद्वार तक एक दिन में भी नहीं पहुँच सके। दो किलोमीटर पहले ज्वालापुर में ही रूकना पङा। आज सवेरे जब छः बजे उठे तब भी बारिश जारी थी। मैं 16 जनवरी 2015 का सवेरा देख रहा था। इस बात से बिल्कुल बेखबर कि आज पहाङ पर मुसीबतों का पहाङ टुटने वाला है। वैसे तो उत्तराखंड में पिछले कुछ दिनों से लगातार ही बारिश हो रही थी पर आज सैलाब आने वाला था। आठ बजे तक मैं अपने नित्य कार्यों से निपट चुका था। सुँदर और कल्लू को भी जगा दिया कि वे भी निपट लें ताकि जैसे ही मौका मिले, आगे पहाङ के सफर पर निकल पङें। नौ बजे तक हम रेडी-टू-गो हो गऐ। लेकिन वर्षा रूकने के कोई आसार नहीं। धर्मशाला वालों से इस बात की भनक हमें मिल चुकी थी कि ऊपर पहाङों पर भी लगातार जबरदस्त बारिश चल रही है। एक बार यह भी विचार आया कि अबकी बार उत्तराखंड यात्रा रद्द कर देते हैं और घर लौट चलते हैं। विचार-विमर्श चल ही रहा था कि मूसलाधार बारिश चमत्कारी ढंग से रूक गई। बादल छँटे तो नहीं थे पर पानी की एक बूँद तक नहीं गिर रही थी। मैं आगे जाना चाहता था। साथी भी पीछे नहीं हटे। धर्मशाला वालों को पचहतर रूपऐ दिये और मोटरसाईकिल स्टार्ट कर आगे बढ चले। सङक पर आते ही भंयकर रूप से हुई बारिश का परिणाम देखने को मिल रहा था। जगह-जगह पानी भरा हुआ था। ज्वालापुर में स्वामी श्रृद्धानंद चौक के पास उपरी गंग नहर पर एक पुल है। इस पुल के पास वाले घाट पर एक छोटा सा मंदिर है। यह मंदिर गंग नहर में आधे से ज्यादा डूब चुका था। केवल ऊपरी भाग में शेषनाग का फन ही नजर आ रहा था। आगे बढे। बूंदाबांदी फिर शुरू हो गई। हरिद्वार में गंगा तट पर शोभायमान ऊंची शिव प्रतिमा के पास वाले पुल से गंगा को देखा। समुंद्र जैसी विशाल लहरें। एक मोटरसाईकिल के अवशेष भी देखे जिसे गंगा पता नहीं कहां से बहा लाई थी और यहां किनारे पर पटक दिया था। हर की पौङी की तरफ का जायजा भी लिया गया। पानी वाल्मिकी मंदिर में घुसने को उतावला था। धारा के ठीक बीच में विराजित देवी की प्रतिमा का भी कोई नामोनिशान नहीं था। गंगा का वैसा रौद्र रुप आज तक हरिद्वार में मैंने तो इससे पहले नहीं देखा था। हर की पौङी की सीढीयां डूब रही थीं और जीवनदायिनी मां आज चंडी का रूप धारण किये हुऐ थी।

बुधवार, 5 अगस्त 2015

उत्तराखंड मोटरसाईकिल यात्रा 2013 - एक बाईक ट्रिप बारिश में

कौन भूल सकता है उस तबाही को, जो 2013 में उत्तराखंड ने देखी थी। विनाश के उस सागर के तट पर उन दिनों मैं भी तो था। गंगा का वैसा रौद्र रुप आज तक हरिद्वार में मैंने तो इससे पहले नहीं देखा था। हर की पौङी की सीढीयां डूब रही थीं और गंगा के ठीक बीच में विराजित देवी की प्रतिमा का कोई नामोनिशान नहीं था।

तो दोस्तों, आपको ले चलता हुँ 2013 के उन्हीं विनाशकारी दिनों में मोटरसाईकिल से की गई अपनी हिमालय यात्रा पर।

रविवार, 26 जुलाई 2015

मोटरसाईकिल से भानगढ यात्रा

इस कङी में पढिऐ राजस्थान के भुतहा समझे जाने वाले भानगढ किले का यात्रा-वृतांत

18 जुलाई 2015 यानि शनिवार के दिन मैं, सुंदर और कल्लू बारिश में भीगते हुऐ खेतों की ओर निकल गऐ। कुछ देर इधर-उधर की बातें हुईं। फिर मैं कहने लगा कि यार पंजों में बङी बेचैनी महसुस हो रही है। बहुत दिनों से कहीं घुमने का कार्यक्रम नहीं बना है। चलो कहीं चलते हैं। हालांकि सुंदर जुन में ही पत्नी और बच्चों के साथ मसूरी घूम कर आया था। अब फिर से कहीं चलने की बात उठी तो पठ्ठा फटाक से फिर तैयार हो गया। कल्लू की हमेशा से आदत रही है कि जब भी कहीं घुमने चलने की बात होती है तो बंदा ऐसे रिएक्ट करता है जैसे केवल घुमक्कङी के लिऐ ही उसका जन्म हुआ है। कहता है – अरै यार, ये भी कोई पुछने की बात है। कभी भी चलो। हालांकि इस कभी भी चलने का मतलब होता है कि कभी भी मत चलो। एक बार जोश से भर जाने के बाद जल्द ही उसकी हवा निकल जाती है और जैसे-जैसे वक्त नजदीक आने लगता है, टालमटोल के उसके नऐ-नऐ बहाने निकलने लगते हैं। कल्लू महाराज पक्के सरकारी नौकर हैं। नौकरी पर कम ही जाते हैं। लेकिन जब हम कहीं घुमने का कार्यक्रम बना रहे हों तब तो उन्हें नौकरी पर जाना ही जाना होता है, अन्यथा देश की व्यवसथा खतरे में पङ सकती है। सुंदर की छुट्टी मंगलवार की होती है। उसकी ड्यूटी का कुछ ऐसा चल रहा है कि इसी एक दिन से ज्यादा छुट्टी वो कर नहीं सकता। उसका ड्यूटी-टाईम है दोपहर एक बजे से रात दस बजे तक। मैं मोटरसाईकिल से जाना चाहता था और नाईट-ड्राईविंग भी नहीं करना चाहता था। तो इस प्रकार हमारे पास मंगलवार (21-07-2015) का पुरा दिन और बुधवार का आधा दिन था। बुधवार दोपहर तक हर हाल में सुंदर को ड्यूटी पर पहुँचना था।

मंगलवार, 14 जुलाई 2015

शिमला यात्रा - दिल्ली से शिमला (प्रथम दिन)

हिमालय भारत का ताज है। ताज क्या राजा है राजा। जैसे राजाओं की कई-कई रानियां होती हैं, वैसे ही हिमालय के पहाङों की भी कई रानियां हैं। जैसे- मसूरी, शिमला आदि आदि आदि। तो जी 2012 के सितंबर माह में जब पहाङों की रानी शिमला का कार्यक्रम बन गया। सोचा वाहन भी कुछ राजसी झलक वाला होना चाहिऐ। अब मैं ठहरा बोद्दे हिसाब-किताब का माणस। जहाज में तो जा ना सकता। हिमालयन क्वीन का आरक्षण करा डाला। धुर शिमला तक कन्फर्म बर्थ भी मिल गई। हो गऐ शाही ठाठ। आराम से पैर पसार कर सफ़र करेंगें। ट्रेन का अंदाज़ राजसी ना सही, नाम तो है। अब महाराज हिमालय की रानी शिमला तक रानी ट्रेन से यात्रा करेंगें।

शनिवार, 11 जुलाई 2015

वैष्णों देवी यात्रा – जम्मू से दिल्ली

इस यात्रा-वृतांत को शुरु से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें

कल रात में हम सब भैंरो बाबा के मंदिर पहुँच गऐ थे और दर्शन करने के बाद वहीं धर्मशाला में रुक गऐ थे। आज सुबह जाग उठने के बाद हल्का-फुल्का नाश्ता किया और वापसी की सुरती भर दी। रात को आराम करने को मिल गया था तो अब थकान ना के बराबर थी। अपने-अपने झोले उठाऐ और कटरा के लिऐ उतराई शुरु कर दी। आज की देर रात जम्मू से दिल्ली तक नवयुग एक्सप्रेस में हमारा आरक्षण था। कोई जल्दी नहीं थी। इसलिऐ आराम से प्रकृति के नज़ारे लेते हुऐ चल रहे थे जबकि माताजी और पिताजी चाहते थे कि फटाफट कटरा पहुँच कर शाम तक आराम की नींद ली जाऐ। कुछ देर हम तीनों (मैं, मेरी पत्नी मनीषा और मेरा अनुज बंटी) उनके साथ अनमने मन से जल्दी-जल्दी उतरते रहे। पर आखिर इतनी मनमोहक दृश्यावलियों को दिल में बसाऐ बिना कैसे हम यूँ ही जाकर कंक्रीट की चारदीवारियों में जा पङें। यह तो घुमक्कङी धर्म के विपरित भी हुआ। शीघ्र ही बग़ावत कर दी गई। जनक पार्टी से कह दिया गया कि आप चल कर आराम करें, हम आराम से घुमते हुऐ अपने आप आ जाऐंगे। उनके जाने के बाद तो हम अपनी मर्जी के मालिक थे। जहां चाहें जितनी देर चाहें घुमने को स्वतंत्र थे। जाहिर है इस आजादी का खूब फ़ायदा भी उठाया गया। प्राकृतिक दृश्यों का खूब आनंद लूटते हुऐ, फोटो क्लिक करते हुऐ लगभग छह घंटों में हम कटरा पहुँचे थे। इसमें भी ज्यादातर वक्त तो अर्धकवारी से उपर ही बीत गया। जबकि चढाई के दौरान हमने बमुश्किल चार घंटे का समय लिया था। वो भी तब जबकि माताजी के घुटनों में दर्द रहता है।

गुरुवार, 9 जुलाई 2015

वैष्णों देवी यात्रा – कटरा से भैंरो मंदिर

इस यात्रा-वृतांत को शुरु से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें

रात डेढ बजे के लगभग ट्रेन में सवार होने के बाद हम सारे सो गऐ थे। और जब सवेरे आँख खुलीं तो किला रायपुर निकल रहा था। किला रायपुर, पंजाब का यह गांव दुनियां में मशहूर है। इसकी मशहूरी की ख़ास वजह है यहां सालाना होने वाला खेल महोत्सव। आम मनोरंजक खेलों से लेकर साहस भरे अनगिनत खेलों का आयोजन किया जाता है। जांबाज सिक्ख लङाकों का प्रदर्शन देखते ही बनता है। ख़ैर किला रायपुर को फिर कभी के लिऐ रख छोङते हैं और वैष्णों माई की अपनी यात्रा पर आगे बढते हैं। जागने के बाद पहला बङा स्टेशन आया- लुधियाना। यह शहर किसी परिचय का मोहताज नहीं है। लुधियाना उत्तर रेलवे का बहुत बङा जंक्शन है। यहां से एक लाईन चंडीगढ की ओर जाती है। एक लाईन जाती है हरियाणा के जाखल की ओर, जिससे हम आऐ हैं। फाज़िल्का और अटारी के लिऐ भी यहां से रेलवे लाईन जाती हैं। ये लाईनें भारत-पाकिस्तान बॉर्डर की ओर जाती हैं। अटारी तो आप जानते ही होंगें। अटारी वाली लाईन वाघा होते हुऐ सीमा पार करके आगे पाकिस्तान में लाहौर तक भी जाती हैं। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इसी लाईन पर वर्ष 2000 के दशक में समझौता एक्सप्रेस चलाई थी। लुधियाना से ही एक सिंगल ट्रेक पंजाब के एक और शहर लोहिया खास की ओर जाता है।

शुक्रवार, 3 जुलाई 2015

वैष्णों देवी यात्रा (सपरिवार) - प्रस्थान दिवस

आज का समय कुछ ऐसा चल रहा है कि यदि आप किसी इंसान से निःस्वार्थ प्रेम करते हैं और इस प्रेम का इज़हार भी करते रहते हैं तो बहुधा सामने वाला यह समझने लगता है कि आप जरुर कोई स्वार्थ साधना चाहते हैं। आप स्वयं बारीकी से गौर करके देख लीजिऐ, लगभग हर जगह कुछ ऐसा ही चल रहा है। आज के व्यवसायिक माहौल में यह बिल्कुल आम हो चला है। अगर आप किसी से प्रेम करते हैं या आपके मन में किसी के प्रति लगाव है तो कोई जरुरी नहीं कि आपको बदले में प्रेम ही मिले। अब धोखा मिलने के चांस बढ गऐ हैं। लेकिन ऐसा केवल इंसानों के केस में है, जानवर आज भी वहीं हैं जहां प्रकृति ने उन्हें छोङा था। ये बेचारे इंसान की तरह अपना विकास नहीं कर पाऐ।

- गर्मियों के दिनों में जब सबकुछ सूखने लगता है, अपने घर में छांव में कहीं पर मिट्टी के एक तौले या बर्तन में पानी भर कर रखना शुरु कर दें। आपको बर्ड वाचिंग के लिऐ जंगलों में नहीं जाना पङेगा। कुछ ही दिनों में पंछियों की चहचहाहट से घर भर जाऐगा। हां घर वालों की डांट भी पङ सकती है क्योंकि आपके साथ रहने के लिऐ ये पंछी कुछ तिनके उठा लाऐंगें जो घर में फैल सकते हैं। और फिर घर खराब दिखेगा।
- आप राह चलती किसी प्यासी गाय को एक बाल्टी पानी पिला दीजिऐ और घर में वापस घुसने की बजाय जरा देर के लिऐ के लिऐ उसके शरीर को सहला दीजिऐ। आपकी प्रेम-दीवानी होकर अपनी खुरदरी जीभ से आपको चाटना शुरु कर देगी। अपने माथे से आपकी कमर पर रगङना शुरु कर देगी। तभी कोई इंसान भागा-भागा आऐगा और प्रवचन शुरु कर देगा- भगा दे इसनै। दुण (टक्कर) मार देगी। चल। हौ। है।
- एक ताज़ी जच्चा बिल्ली, जिसका दुध ही उसके बिलौटे का एक मात्र आहार है, उसके सामने थोङा सा दुध अपने हिस्से में से निकाल कर रखना शुरु कर दीजिऐ। कुछ ही दिनों में आपके पैरों से खुद को रगङना शुरु कर देगी। हां घर वालों की डांट भी पङेगी वो अलग बात है।

बुधवार, 1 जुलाई 2015

शिलांग यात्रा (गुवाहाटी से दिल्ली)

इस यात्रा-वृतांत को शुरु से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें

पूर्वोत्तर भारत में तीन दिन बिताने के बाद मैं अब वापस घर की ओर रुख़ कर चुका हुँ। दिल्ली से चलने के बाद मुझे गुवाहाटी पहुँचने में दो दिन लगे थे। अब इतना ही वक्त वापस घर पहुँचने में भी लगेगा। कुल मिलाकर पूर्वोत्तर भारत की इस यात्रा में सात दिन लगे मुझे। इस यात्रा के अनुभवों को आपके साथ सांझा किया। अगर आप भी मेरी तरह फक्कङ घुमक्कङ हैं तो उम्मीद है ये अनुभव आपके भी कुछ काम आ जाऐंगें। आपके भी सुझावों का स्वागत है।

वापसी के सफ़र ने काफी परेशान किया। सीट कन्फर्म थी फिर भी सफ़र का एक बङा हिस्सा खङे खङे तय किया। असल में गरमी और भीङ बहुत थी। ऊपर से यू.पी., बिहार। कोई इन राज्यों से हो तो माफ करना पर आप भी जानते हैं कि यहां से गुजरने वाली ट्रेनों की पान और पसीने की दुर्गंध से कैसी दुर्गति होती है। खासकर बिहार और पूर्वी यू.पी. में। सच तो सच ही होता है, भले ही बुरा लगे। मैं गरमी कम ही सहन कर पाता हुँ। कुछ लोग इसे मेरी कमी कह सकते हैं। मगर क्या करुं भई। मैं तो खुद मजबूर हुँ। घर वापसी के सफ़र में जब ज्यादा परेशान हो जाता था तो ऐ.सी. डिब्बे के दरवाजे के पास आकर खङा हो जाता था। इसे जरा सा खोलकर कई-कई देर तक खङा रहता था, खङा रहता था। डिब्बे के अंदर से बङी ठंडी-ठंडी हवा आती थी। अब सोचता हुँ कि परेशान तो हुआ पर इस तरह किराऐ के दो हजार से भी ज्यादा रुपिऐ बचा लिऐ। अगर थर्ड ऐ.सी. का टिकट भी लेता तो आने-जाने के पंद्रह सौ-पंद्रह सौ के टिकट लगते। स्लीपर में तो पाँच-पाँच सौ से भी कम लगे।

मंगलवार, 30 जून 2015

शिलांग यात्रा - पाँचवां दिन (कामाख्या देवी मन्दिर)

इस यात्रा-वृतांत को शुरु से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें

बरसों से चले आ रहे धार्मिक कलह को आगे बढाने का मेरा यहां कोई इरादा नहीं है। अगर किसी की भावनाऐं आहत हों तो मुझे माफ़ कीजिऐगा, लेकिन स्थापित सत्य से कोई भी इसांन, चाहे वो किसी भी मजहब से ताल्लुक रखता हो, मुकर नहीं सकता है। हिन्दु धर्म में अन्य धर्मों की तरह भले ही बहुत से अंधविश्वास और कुरीतियां हो लेकिन युगों से फल-फूल रही इस सनातन विचारधारा ने कुछ ऐसे मापदंडों, नियमों और रीतियों-नीतियों को विकसित किया है जिनका यदि दृढता के पालन किया जाऐ तो जीवन के चारों आश्रम बहुत सहजता से व्यतीत हो जाऐगें, बेखटके। यकीनन इन्हें जीवन के कुशल संचालन हेतु ही बनाया गया है जो यदि टुटते हैं तो प्रतिफल के रुप में दुख ही मिलता है, फिर चाहे ये भगवान से टुटें या इंसान से। हिन्दु धर्म के अनेक नियमों में वे कसम भी शामिल हैं जो पडिंत महाराज आपको विवाह के फेरों की रस्म के समय खिलाता है। याद कीजिऐ इनमें पत्नी को एक कसम खिलाई जाती है कि अपने पति की आज्ञा के बिना वो कहीं नहीं जाऐगी यहां तक कि मायके भी नहीं। खटपट शुरु ही तब होती है जब पति-पत्नी इन खाई हुई कसमों की उल्टी शुरु कर देते हैं अर्थात इनका पालन नहीं करते। इंसानों का हाल तो आप सर्वत्र देख ही रहे हैं लेकिन जब ईश्वर तक इन नियमों को तोङते हैं तो रिज़ल्ट क्या निकलते हैं इसका एक प्रत्यक्ष प्रमाण तो भारतीय उपमहाद्वीप में जगह-जगह बिखरे शक्तिपीठ ही हैं।

रविवार, 28 जून 2015

शिलांग यात्रा - चौथा दिन (शिलांग से गुवाहाटी)

इस यात्रा-वृतांत को शुरु से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें

आज सुबह छह बजे आँख खुली तो ख़ुद को काफी तर-ओ-ताज़ा पाया। मैं फिलवक्त शिलांग के पुलिस बाज़ार के एक होटल में हुँ और उत्तर-पूर्व भारत की अपनी इस यात्रा पर कल ही यहां पहुँचा हुँ। भारत के प्रतिष्ठित सरकारी प्रबंधन संस्थानों "इंडियन इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट" की कङियों में सें एक शिलांग में भी है। इसका पूरा नाम है- राजीव गांधी भारतीय प्रबंधन संस्थान, जोकि पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी के नाम पर रखा गया है। इसी प्रतिष्ठित संस्थान में आज भारतीय नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की मेघालय सर्कल की मेरी परिक्षा भी है जिसका समय निर्धारित है प्रातः ग्यारह बजे। शिलांग में उत्तर-पूर्व भारत को समर्पित प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय "नार्थ-ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी" भी है। तो मैं उठा और होटल से निकलने के उपक्रम करने लगा। दैनिक कार्यों से निवृति के बाद नहा-धोकर अपना बैग पैक किया और लगभग आठ बजे होटल से निकल गया। आसमान बादलों से भरा हुआ था ओर हल्की-हल्की बूंदाबांदी हो रही थी। पूरी संभावना थी कि जमकर बारिश होगी। शिलांग वैसे भी चेरापूँजी (Cherrapunji) और मौसीनरम (Mawsynram) के पास ही है जो पूरे विश्व में सर्वाधिक वर्षा वाला स्थान माना जाता है। अनुमान के अनुसार यहां वर्षा की औसत वार्षिक दर बारह हजार मिलीमिटर से भी अधिक है। आप स्वयं ही सोचिऐ कि इतने सारे पानी का यदि बेहतर संचयन और दोहन किया जाऐ जाऐ तो निचले इलाकों की पानी की कमी की समस्या का कुछ समाधान किया जा सकता है। हिमाचल प्रदेश की कुल्ह व्यवस्था यहां भी आज़माई जा सकती है (हालांकि कुल्ह की कद्र अब इसके ग्रह प्रदेश में ही नहीं है।) किसी को कोई फिक्र ही नहीं। कुछ हद तक लोग भी यथा राजा तथा प्रजा की तरह हो गऐ हैं। न प्रशासन को फिक्र, न ही शासन को और न ही शाासितों को।

बुधवार, 24 जून 2015

शिलांग यात्रा - तीसरा दिन (गुवाहाटी से शिलांग)

इस यात्रा-वृतांत को शुरु से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें
उत्तर-पूर्व भारत की अपनी इस यात्रा पर निकले मुझे दो दिन हो गये हैं। कल रात ग्यारह बजे सोने के बाद अचानक जब आँख खुली तो ट्रेन को रूका हुआ पाया। सोचा कि चलो देखते हैं कहां तक पहुँचे। गाङी से उतरकर उन्नींदी आँखों से इधर-उधर देखा, सामने बोर्ड लगा था- गुवाहाटी। ओ तेरी... पहुँच गया मैं तो। भाग कर गाङी के अंदर गया और अपना सामान उतार लाया। बस इतना भर होने की देर थी कि गाङी ने चलने के लिए सीटी बजा दी। माँ कामाख्या बचा लिया तुमने वरना पता नहीं कहां से बैक-रेस लगानी पङती।

मंगलवार, 23 जून 2015

शिलांग यात्रा - दूसरा दिन

इस यात्रा-वृतांत को शुरु से पढने के लिऐ यहां क्लिक करें
उत्तर-पूर्व की अपनी इस यात्रा की शुरुआत मैनें कल बहादुरगढ से की थी। दिल्ली, मुरादाबाद, बरेली होते हुऐ कल शाम तक मैं लखनऊ पहुँच गया था। मेरी सीट कन्फर्म नहीं थी और रात में गोंडा जंक्शन के आस-पास किसी तरह सीट का जुगाङ भिङा कर अपने सोने का इंतज़ाम किया था। आज तङके जब उठा तो पूरा बदन अकङा-सा महसूस हुआ। पैरों की हड्डियां शिकायत रही थी कि हमारी जगह और सीरत नीचे की ओर होती है जबकि तुमने हमें सारी रात आसमान की ओर उठाऐ रखा। मैने उन्हें पुचकार दिया कि अभी तो इब्तिदा-ए-इश्क है सनम, आगे-आगे देखिऐ होता है क्या...

सोमवार, 22 जून 2015

शिलांग यात्रा - प्रस्थान दिवस

एक सरकारी मुलाज़िम अपने भविष्य को लेकर सुरक्षित रहता है, यह मेरा मानना है। कम से कम यह चिंता तो नहीं ही रहती कि किसी छोटी-मोटी चूक के कारण उसे नौकरी से निकाल बाहर किया जायेगा। मैं अभी तक सरकारी नौकरी के इसी रौब और सुरक्षित भविष्य की गारंटी से महरूम हुँ। सीमित संसाधनों और आजीविका कमाने के चक्कर में बहुधा लोग अपने शौक पूरे नहीं कर पाते। मैं कोई अपवाद नहीं हुँ और इस पी़ङा को भली-भांति समझता हुँ। घुमक्कङी मेरा शौक जो है और धीरे-धीरे जैसे मेरे डी.एन.ए. में रमता जा रहा है। यही नही अक्सर कोढ में खाज की तरह मेरे साथ होता ये भी होता है कि जब कहीं निकलने का प्लान बनाने लगता हूँ तो घर वाले सवालों और आपत्तियों की बँदूक मेरी छाती पर तान देते हैं। कोई कहता है- क्यूँ पैसे ख़राब कर रहा है। कोई कहता है- ऐ बेटा मेरा तो पहले तै ऐ जी घबरावे है, मत जा। और भी कोई कुछ कहता है तो कोई कुछ। पर बंदे में घुमक्कङी का ऐसा कीङा है कि सब काम निकल जाऐ एक ऐसा बीच का रास्ता निकाल लिया। सरकारी नौकरीयों के दुर-दुर के फॉर्म भरने भी शुरु कर दिऐ। घुमक्कङी की घुमक्कङी और साथ ही नौकरी की तलाश। इस यात्रा-वृतांत से पहले भी मैं कई जगह घुम चुका हुँ जैसे हरिद्वार साईकिल यात्रा 2002 में, नौ देवी यात्रा (जिसमें नैना देवी, ज्वालामुखी, चिंतपूर्णी, वैष्णों देवी आदि शामिल है) 2003 में, देहरादून-मसूरी यात्रा 2007 में, चंडीगढ यात्रा 2008 में, देहरादून-सहस्त्रधारा यात्रा 2009 और बीच-बीच में कई अन्य छोटी-मोटी यात्राऍ। लेकिन दोस्तों, 2011 में की गई अपनी इस उत्तर-पूर्व भारत की यात्रा को लेकर मैं पहली बार आपके बीच हूँ। हालांकि इसी साइट पर इससे पहले मैं वैष्णों देवी यात्रा 2011 भी प्रकाशित कर चुका हुँ।

तो आइये चलते हैं शिलांग की यात्रा पर कुछ कदम मेरे साथ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...